Sunday, January 17, 2021

दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी द्वारा गुरु गोबिन्द सिंह जी के प्रकाष पर्व को समर्पित नगर कीर्तन सजाया गया




दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी द्वारागुरु गोबिन्द सिंह जी के प्रकाष पर्व को समर्पित नगर कीर्तन सजाया गया

मनजिन्दर सिंह सिरसा, हरमीत सिंह कालका सहित बड़ी गिनती में संगत हुई नतमसतक

नई दिल्ली 17 जनवरी: दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबन्धक द्वारा आज साहिब ए कमाल सरबंस दानी दसम पातषाह श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी के प्रकाष पर्व को समर्पित विषाल नगर सजाया गया जो कि प्रातः 11 बजे गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब से आरंभ होकर षंकर रोड, पटेल नगर, राजा गार्डन, तिलक नगर होता हुआ फतेह नगर जेल रोड पर समाप्त हुआ।

दिल्ली कमेटी के अध्यक्ष मनजिन्दर सिंह सिरसा, महासचिव हरमीत सिंह कालका, वरिष्ठ उपाध्यक्ष बीबी रणजीत कौर सहित समुह पदाधिकारियों एवं सदस्यों सहित बड़ी गिनती में संगतों ने नगर कीर्तन में भाग लिया एवं गुरु ग्रन्थ साहिब जी के आगे नतमस्तक होकर गुरु साहिब का आर्शीवाद प्राप्त किया।

नगर कीर्तन की विषेषता यह थी कि सिवाये गुरु साहिब की सवारी वाली गाड़ी के नगर कीर्तन में कोई गाड़ी शामिल नहीं हुई एवं सारी संगत पैदल ही सतनाम वाहेगुरु का जाप करते हुए समुचे नगर कीर्तन में शामिल हुई। इस मौके पर महिलाओं के जत्थों के इलावा शब्दी जत्थों ने गुरु की इलाही बाणी के कीर्तन किये एवं संगत के समुचे रास्ते में गुरु सवारी पर फूलों की बारिश की। नगर कीर्तन की अगुवाई पांच प्यारों ने की।

कोरोना महामारी के बाद पहली बार दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी ने समुह सिंह सभाओं के सहयोग से संगत की मांग पर नगर कीर्तन सजाया।

Nagar Kirtan Dedicated to Parkash Gurpurab of Sri Guru Gobind Singh ji

               









Pics Courtesy,
Mr.Manjinder Singh 
President
DSGMC

दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी द्वारा गुरु गोबिन्द सिंह जी का प्रकाश पर्व 20 जनवरी को मनाया जायेगा

      दिल्ली कमेटी धर्म प्रचार के मुखीजतिन्दरपाल सिंह गोल्डी

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी द्वारा साहिब श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी का प्रकाशपर्व 20 जनवरी को गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब के लख्खीशाह बंजारा हाल में मनाया जायेगा और 17 जनवरी दिन रविवार को नगर कीर्तन निकाला जायेगा जो गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब से शुरु होकर फतेह नगर में समाप्ति होगा।

यह जानकारी देते हुए दिल्ली कमेटी धर्म प्रचार के मुखी जतिन्दरपाल सिंह गोल्डी ने बताया कि कोरोना महामारी के बाद यह नगर कीर्तन निकाला जा रहा है और इसमें सुरक्षा की दृष्टि से स्कलों के बच्चों और गतका पार्टियों को शामिल नहीं किया जायेगा। 

सः गोल्डी ने कहा कोरोना महामारी के चलते गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व और गुरु तेग बहादुर जी के शहीदी पर्व पर कमेटी द्वारा नगर कीर्तन नहीं निकाले गये थे। इस बार प्रबंधकों ने संगतों की मांग पर यह फैसला लिया है कि नगर कीर्तन निकाला जाए।

उन्हांेने बताया कि 19 तारीख रात को सभी इतिहासिक गुरुद्वारा साहिब में भी कीर्तन समागम किये जायेंगे और 20 तारीख को सुबह अमृत वेले से लख्खीशाह बंजारा हाल मंे दीवान सजाये जायेंगे जो देर रात तक चलेंगे जिसमंे पंथ प्रसिध कीर्तनी जत्थे गुरबाणी के मनोहर कीर्तन द्वारा संगतों को निहाल करंेगे, कथा वाचक पहुंचकर गुरबाणी की विस्तारपूर्वक व्याख्या करेंगे। 

उन्होंने संगतों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना को देखते हुए नगर कीर्तन के रास्ते में कोई स्टाल ना लगाया जाए और सरकार द्वारा जारी निर्देशों का पालन करते हुए समाजिक दूरी व मास्क को सुनिश्चित किया जाये। उनहोंने आगे जानकारी दी कि किसान आंदोलन के चलते सिन्घु बार्डर पर भी संगतों के साथ गुरुपर्व मनाया जायेगा।

 

मनजिंदर सिंह सिरसा :सुप्रीम कोर्ट की कमेटी किसानों को इसलिए स्वीकार्य नहीं क्योंकि यह किसानों के लिए मीठा ज़हर

           

दिल्ली सिख गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष स. मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा है कि किसानों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई कमेटी इसलिए स्वीकार्य नहीं क्योंकि यह किसानों के लिए मीठा ज़हर है।

यहां विज्ञान भवन में किसान जत्थेंबंदियों के नेताओं व सरकार के बीच वार्ता के मौके पर एक बार फिर से लंगर लेकर पहुंचे स. सिरसा ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि किसान मसले के हल के लिए जो कमेटी बनाई गई है उनके सदस्यों ने तो पहले ही कृषि क़ानूनों के हक में अपने बयान दिए हैं जो लेखों के रूप में अख़बारों में भी छपे हैं। उन्होंने कहा कि अगर सदस्य पहले ही कृषि क़ानूनों के हक में हैं तो वह किसानों का पक्ष कैसे अदालत में रख सकते हैं।यह तो वही बात हुई कि बैंकों के कामकाज में सुधार के लिए कमेटी बना दो जिसके सदस्य विजय माल्या व नीरव मोदी जैसे व्यक्तियों को डाल दो जो सुधारों की सिफारिश करेंगे।

स. सिरसा ने कहा कि वास्तव में सरकार की मंशा इस मसले को हल करने की नहीं है बल्कि वह नीति अनुसार मसला लटकाना चाहती है तांकि यह समाप्त हो जाए। उन्होंने कहा कि सरकार को यह समझ नहीं है कि किसान वास्तव में ट्रेक्टर हैं जो जितनी देर चालू रहेंगे उतना अधिक गर्म होते रहेंगे और इस तरीके से यह संघर्ष जितना लटकेगा उतना ही लोग इससे और अधिक जुड़ते रहेंगे।

26 जनवरी के ट्रैक्टर मार्च के सबंध में दिए एक सवाल के जवाब में स. सिरसा ने कहा कि सरकार यह चाहती है कि उस दिन टकराव हो और इसका ठीकरा वह किसानों के सिर पर फोड़ दे। उन्होंने कहा कि यह टकराव किसी भी प्रकार से किसानों के हित में नहीं है व बाकी का फैसला किसान जत्थेबंदियों ने करना है हम हर प्रकार से किसानों के साथ खड़े हैं।

Wednesday, January 13, 2021

शकूर बस्ती में शिरोमणि अकाली दल की विशाल एकत्रता


              शकूर बस्ती में शिरोमणि अकाली दल की विशाल एकत्रता


शकूर बस्ती में शिरोमणि अकाली दल की विशाल एकत्रता हुई जिसमें पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रधान एवं दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी महासचिव हरमीत सिंह कालका, कमेटी सदस्य विक्रम सिंह रोहिणी, एम पी एस चडडा, सर्वजीत ंिसह विरक, कमेटी के मीडीया सलाहकार सुदीप सिंह रानी बाग, यूथ अकाली दल नेता जसप्रीत सिंह विक्की मान ने विशेष तौर पर पहुंचकर संगतों को सम्बोधन किया।


सः हरमीत सिंह कालका ने कहा कि शिरोमणि अकाली को देश की दूसरी बड़ी पार्टी होने का गौरव प्राप्त है क्योंकि देश में अगर कहीं भी कोई विपदा आती है तो शिरोमणि अकाली दल के वर्कर सबसे आगे होकर मोर्चे लगाते आये हैं। हमारी पार्टी के संरक्षक सः प्रकाश सिंह बादल ने पंथ और कौम के लिए अनेक वर्षों तक जेल काटी। एमरजैंसी के खिलाफ भी अगर किसी ने आवाज उठाई तो वह शिरोमणि अकाली दल ही था। दिल्ली गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी में जब से उन्हें सेवा का मौका मिला मानवता की सेवा के अनेक कार्य किये गये। कोरोना काल के दौरान कमेटी के सभी पदाधिकारियों के साथ साथ पार्टी वर्करों ने भी बाखूबी सेवा को निभाया। किसान आंदोलन में के दौरान भी दिल्ली के सभी बार्डस पर सेवाएं निरन्तर जारी हैं।


पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं गुरुद्वारा बंगला साहिब के वाईस चेयरमैन निरंजन सिंह चावला ने कहा हम पार्टी हाईकमान को विष्वास दिलाते हैं कि यह सीट इस बार निश्चित तौर पर शिरोमणि अकाली दल के खाते में आयेगी बशर्ते पार्टी किसी भी स्थानीय उम्मीदवार को टिकट दे। मीटिंग का आयोजन कुलदीप सिंह, अमृतपाल सिंह, गुरप्रीत सिंह हैरी द्वारा किया गया था।